Kumar Vishwas
मैं तो झोंका हूँ हवा का उड़ा ले जाऊँगा by Kumar Vishwas

मैं तो झोंका हूँ हवा का उड़ा ले जाऊँगा by Kumar Vishwas

मैं तो झोंका हूँ हवा का उड़ा ले जाऊँगाजागती रहना तुझे तुझसे चुरा ले ...

0
जिसकी धुन पर दुनिया नाचे by Kumar Vishwas

जिसकी धुन पर दुनिया नाचे by Kumar Vishwas

जिसकी धुन पर दुनिया नाचे, दिल ऐसा इकतारा है,जो हमको भी प्यारा है और, जो तुमको भी प्यारा है.झूम रही है सारी दुनिया, जबकि हमारे गीतों पर,तब कहती हो प्यार हुआ है, क्या अहसान तुम्हारा ...

0
रंग दुनिया ने दिखाया है निराला by Kumar Vishwas

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला by Kumar Vishwas

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला, देखूँ,है अँधेरे में उजाला, तो उजाला देखूँ आइना रख दे मेरे हाथ में,आख़िर मैं भी,कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ जिसके आँगन से खुले थे मेरे सारे ...

0
कुछ छोटे सपनो के बदले  by Kumar Vishwas

कुछ छोटे सपनो के बदले by Kumar Vishwas

कुछ छोटे सपनो के बदले ,बड़ी नींद का सौदा करने ,निकल पडे हैं पांव अभागे ,जाने कौन डगर ठहरेंगे !वही प्यास के अनगढ़ मोती ,वही धूप की सुर्ख कहानी ,वही आंख में घुटकर मरती ,आंसू की ...

0
तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा by Kumar Vishwas

तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा by Kumar Vishwas

ओ कल्पव्रक्ष की सोनजुही!ओ अमलताश की अमलकली!धरती के आतप से जलते..मन पर छाई निर्मल बदली..मैं तुमको मधुसदगन्ध युक्त संसार नहीं दे पाऊँगा|तुम मुझको करना माफ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे ...

0
Best Selling BooksGrab Now!
+ +