Welcome To Poetry World Org.
We are glad you stopped by!

COMING SOON

become a published author with us.

Check below for Best Self Publishing Packages (poetry books, story books, novels) for Maximum Reader Attention. Now PWO offers a package for free in self publishing sector too. Check out our newly arrived packages, we are sure you will love them.

Publish Now
RATED 5 STAR BY IEC FOR PUBLISHING AND MARKETING POETRY BOOKS INTERNATIONALLY
5/5

UPCOMING INTERNATIONAL ANTHOLOGIES

Check Information about all upcoming National and International Anthologies here. We are trying our best to reach maximum reader base for anthologies. So that published writers of anthologies can get maximum benefit.

CHECK NOW
RSS POETRY WORLD ORG YOUTUBE CHANNEL
RSS Poetry World Podcasts
  • Mai Askh hun - Chuski April 2, 2021
    Book by Ankeeta Sahani , Audio Created by - Itishree Creation
    POETRY WORLD
  • Haal - Chuski April 2, 2021
    Book by Ankeeta Sahani , Audio Created by - Itishree Creation
    POETRY WORLD
  • Aitbaar - Chuski April 2, 2021
    Book by Ankeeta Sahani , Audio Created by - Itishree Creation
    POETRY WORLD
  • Episode 2 - Chuski April 2, 2021
    Created by - Itishree Creation
    POETRY WORLD
  • Hum aur wo March 21, 2021
    Poetry from Do ghoont Zindagi book by Supriya Shukla
    POETRY WORLD
  • Kyun dar gya mai itna March 21, 2021
    Poetry from Do ghoont Zindagi book by Supriya Shukla
    POETRY WORLD
  • Teri yaad March 21, 2021
    Poetry from Do ghoont Zindagi book by Supriya Shukla
    POETRY WORLD
  • Hamesha der kar deta hun mai - Munir Niazi March 15, 2021
    हमेशा देर कर देता हूँ मैं हर काम करने में ज़रूरी बात कहनी हो कोई वा'दा निभाना हो उसे आवाज़ देनी हो उसे वापस बुलाना हो हमेशा देर कर देता हूँ मैं मदद करनी हो उस की यार की ढारस बंधाना हो बहुत देरीना रस्तों पर किसी से मिलने जाना हो हमेशा देर कर देता […]
    POETRY WORLD
  • Aa gyi yaad shaam dhalte hi - Munir Niazi March 15, 2021
    आ गई याद शाम ढलते ही बुझ गया दिल चराग़ जलते ही खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े इक ज़रा सी हवा के चलते ही कौन था तू कि फिर न देखा तुझे मिट गया ख़्वाब आँख मलते ही ख़ौफ़ आता है अपने ही घर से माह-ए-शब-ताब के निकलते ही तू भी जैसे बदल सा जाता […]
    POETRY WORLD
  • TUM - Someone special March 10, 2021
    From the book - DO GHOONT ZINDAGI - Supriya Shukla
    POETRY WORLD
  • Mai insaan hun March 10, 2021
    From the book - Do ghoont Zindagi by Supriya Shukla
    POETRY WORLD
  • Chuski book Intro March 9, 2021
    Chuski by Ankeet Sahani
    POETRY WORLD
  • Shayari By Akansha March 8, 2021
    Akansha ( shyahi_ki_ dhaar )
    POETRY WORLD
  • Kuch ishq kiya kuch kaam kiya - Faiz Ahmad Faiz | कुछ इश्क़ किया कुछ काम किया - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ March 5, 2021
    कुछ इश्क़ किया कुछ काम किया वो लोग बहुत ख़ुश-क़िस्मत थे जो इश्क़ को काम समझते थे या काम से आशिक़ी करते थे हम जीते-जी मसरूफ़ रहे कुछ इश्क़ किया कुछ काम किया काम इश्क़ के आड़े आता रहा और इश्क़ से काम उलझता रहा फिर आख़िर तंग आ कर हम ने दोनों को अधूरा […]
    POETRY WORLD
  • आवारा - असरार-उल-हक़ मजाज़ (ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ) March 5, 2021
    शहर की रात और मैं नाशाद ओ नाकारा फिरूँ जगमगाती जागती सड़कों पे आवारा फिरूँ ग़ैर की बस्ती है कब तक दर-ब-दर मारा फिरूँ ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ झिलमिलाते क़ुमक़ुमों की राह में ज़ंजीर सी रात के हाथों में दिन की मोहनी तस्वीर सी मेरे सीने पर मगर रखी हुई शमशीर […]
    POETRY WORLD
  • Sahir Ludhiyanvi - Taj Mahal | ताज महल - साहिर लुधियानवी March 5, 2021
    ताज तेरे लिए इक मज़हर-ए-उल्फ़त ही सही तुझ को इस वादी-ए-रंगीं से अक़ीदत ही सही मेरी महबूब कहीं और मिला कर मुझ से बज़्म-ए-शाही में ग़रीबों का गुज़र क्या मअ'नी सब्त जिस राह में हों सतवत-ए-शाही के निशाँ उस पे उल्फ़त भरी रूहों का सफ़र क्या मअ'नी मेरी महबूब पस-ए-पर्दा-ए-तश्हीर-ए-वफ़ा तू ने सतवत के निशानों […]
    POETRY WORLD
  • Aadminama | आदमी नामा - नज़ीर अकबराबादी March 5, 2021
    दुनिया में पादशह है सो है वो भी आदमी और मुफ़्लिस-ओ-गदा है सो है वो भी आदमी ज़रदार-ए-बे-नवा है सो है वो भी आदमी नेमत जो खा रहा है सो है वो भी आदमी टुकड़े चबा रहा है सो है वो भी आदमी अब्दाल, क़ुतुब ओ ग़ौस वली-आदमी हुए मुंकिर भी आदमी हुए और कुफ़्र […]
    POETRY WORLD
  • Gopaldas Neeraj - Famous lines February 26, 2021
    हर धर्म के आदेश को माना मैंने दर्शन के हर एक सूत्र को जाना मैंने जब जान लिया सब कुछ तो ए मेरे नीरज मैं कुछ भी नहीं जानता ये जाना मैंने हमें यारों ने क्या क्या समझा किसी ने कतरा,किसी ने हमें दरिया समझा सब समझते रहे,जैसा उसे जैसा भाया किन्तु हम जो थे […]
    POETRY WORLD
  • हमेशा देर कर देता हूँ मैं - नज़्म February 22, 2021
    हमेशा देर कर देता हूँ मैं हर काम करने में ज़रूरी बात कहनी हो कोई वा'दा निभाना हो उसे आवाज़ देनी हो उसे वापस बुलाना हो हमेशा देर कर देता हूँ मैं मदद करनी हो उस की यार की ढारस बंधाना हो बहुत देरीना रस्तों पर किसी से मिलने जाना हो हमेशा देर कर देता […]
    POETRY WORLD
  • Rhythmic Rhymes 4 February 22, 2021
    Episode 4
    POETRY WORLD

Have A Query? Contact Us Now

Copyright by Poetry World Org. | Website designed by PWO

FOLLOW US FOR ONLINE CONTESTS AND OFFERS -